इंदौर शहर में नए कोरोना मामलों की गिनती में चार दिनों से लगातार गिरावट देखी जा रही है और इससे निश्चित रूप से शहर के लोगों को कुछ राहत की सांस मिली हैं। रविवार को 1,679 नए मामले और 1,371 रिकवर्ड मामलों के दर्ज होने के साथ, शहर में सक्रिय मामलों की संख्या इस समय 16,828 है। हालांकि यह अनुमान है की अभी कोरोना मामलों की संख्या और कम होगी लेकिन शहर के मेडिकल ढाँचे पर दबाव हल्का होने में समय लगेगा।

45 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर नीदरलैंड से इंदौर आये

गंभीर कोरोना मामलों के चलते तेज़ी से बढ़ रही ऑक्सीजन की कमी के संकट को देखते हुए, चार्टर्ड अकाउंटेंट एसोसिएशन ने ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर की सप्लाई को बढ़ाने के लिए एक पहल की थी। विदेशों में रह रहे इंदौर के लोगों से धनराशि इकठ्ठा कर इस एसोसिएशन ने नीदरलैंड से 45 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर आर्डर किये।


हालांकि स्टॉक पहले मुंबई पहुंचा उसके बाद ये जीवन बचाने वाले संसाधन को 2 दिनों में इंदौर डिलीवर किया गया। रिपोर्ट के अनुसार इस प्रोजेक्ट में लगभग 30 लाख रुपये लगे जिसमें सीए एसोसिएशन और विदेशी नागरिकों का दान शामिल था।

इंदौर मेडिकल कॉलेज को मिला 500 लीटर का रेफ्रीजिरेटर


राज्य के एक सामाजिक समूह द्वारा मदद के रूप में एक 500 लीटर की कैपेसिटी का रेफ्रीजिरेटर प्राप्त हुआ है जो की इस समय इंदौर के महात्मा गाँधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज में रखा गया है। रेमेडीसीवीर लिक्विड प्रोफाइल में होती है तो यह रेफ्रीजिरेटर केवल बेहतर संरक्षण की सुविधा ही नहीं बल्कि बेहतर उपलब्धता भी प्रदान करेगा। हाल ही में अस्पतालों ने यह आवश्यकता जताई थी जो अब पूरी हो गयी है। इस विकास के साथ सरकारी अस्पतालों में मरीज़ों को रेमेडिसिविर की बेहतर सप्लाई मिल पाएगी।

इसके अलावा मेडिकल कॉलेज ने 100 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर को 1.5 करोड़ के फण्ड के माध्यम से प्राप्त करने की योजना शुरू कर दी है। ये उपकरण उन मरीज़ों की सहायता करेंगे जिन्हे हाई फ्लो ऑक्सीजन की आवश्यकता नहीं है। रिपोर्ट के अनुसार इस फण्ड का एक भाग डी-डायमर कीटों को प्राप्त करने में भी इस्तेमाल किया जाएगा।