जरूरी बातें

इंदौर में पिछले साल के मुकाबले इस साल दिसंबर के महीने में नहीं पड़ रहा ठंडा।
दिन की गर्मी के लिए भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने घने बादलों यानी इंसुलेटिंग क्लाउड कवर (Insulating Cloud Cover) को ठहराया जिम्मेदार।
शहर के तापमान की दैनिक सीमा (Diurnal Range of Temperature) में भी आ रही है कमी।
शहर में दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक पारा गिरने की है संभावना।
बीते सोमवार इंदौर का अधिकतम और न्यूनतम तापमान औसत 28.3 डिग्री सेल्सियस से 15.2 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा।
दिसंबर 2014 में शहर के तापमान में 5 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज की गयी थी गिरावट।

दिसंबर का महीना शुरू हो चुका है और यह वही महीना होता है जब यह मौसम लोगों को ठंड का अधिक अहसास कराता है लेकिन इस बार इंदौर में लोगों को ठण्ड की जगह सामन्य तापमान वाले मौसम का सामना करना पड़ रहा है। इंदौर में पिछले दो दिनों से आसमान में घने बादल छाए हुए हैं जिस कारण भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने दिन की गर्मी के लिए इन घने बादलों यानी इंसुलेटिंग क्लाउड कवर (Insulating Cloud Cover) को जिम्मेदार ठहराया है।

कथित तौर पर, इंदौर के तापमान की दैनिक सीमा (Diurnal Range of Temperature) में भी कमी आ रही है जिस कारण रात में भी ठण्ड कम पड़ती है। मौसम के अनुमान के अनुसार, इंदौर में दिसंबर के दूसरे सप्ताह तक पारा गिरने की संभावना है।

इंदौर में है ठण्ड के मौसम का इंतज़ार

भोपाल स्थित मौसम विज्ञान केंद्र के अधिकारियों के मुताबिक, उत्तर-पूर्वी अरब सागर और गुजरात के दक्षिणी भाग में चल रही चक्रवाती हवाओं के कारण इंदौर की हवा में नमी दर्ज़ की गयी है। हवा में नमी के चलते पूरे शहर में घने बादल छा गए हैं जिस कारण तापमान में किसी भी तरह का उतार-चढ़ाव नहीं हो पा रहा है।

बीते सोमवार इंदौर का अधिकतम और न्यूनतम तापमान औसत 28.3 डिग्री सेल्सियस से 15.2 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा, जो अनुकूलतम परिस्थितियों से तीन डिग्री अधिक है। रिपोर्ट के अनुसार, इंदौर में अगले 24 घंटों के लिए तापमान में गिरावट नहीं होगी। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अपने बुलेटिन में कहा कि इंदौर में मंगलवार तक बादल छाए रहेंगे, जिस कारण तापमान में गिरावट नहीं होगी लेकिन उसके बाद मौसम धीरे-धीरे ठण्डा होने लगेगा।

इंदौर में इस साल दिसंबर में तापमान में कोई गिरावट नहीं की गयी दर्ज

10 साल के मौसम विश्लेषण की समीक्षा करने के बाद यह पता चला कि दिसंबर 2014 में इंदौर के तापमान में 5 डिग्री सेल्सियस तक गिरावट दर्ज की गयी थी लेकिन इस साल दिसंबर में कोई गिरावट नहीं दर्ज की गई है। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार इंदौर की सर्दी के लिए उत्तरी हिमालयी से चलने वाली हवाएं जिम्मेदार होतीं हैं और इस बार ऊपरी इलाकों में बर्फबारी के बाद इंदौर में सर्दी का असर दिखेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *