जरूरी बातें

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर पिकअप और ड्राप की लेन में जाना लोगों के लिए हुआ महंगा।
निजी वाहन 0 से 8 मिनट तक अगर पिकअप और ड्राप की लेन में रुकते है तो उन्हें कोई शुल्क नहीं देना होगा।
वहीं, कमर्शियल वाहनों को पार्किंग में 8 मिनट तक रुकने पर देना होगा 30 रुपये का शुल्क।
अगर कोई निजी और कमर्शियल वाहन 8 से 15 मिनट की अवधि के बीच तक रुकता है तो 50 रुपये का शुल्क देना पड़ेगा।
15 मिनट से 30 मिनट तक रुकने के लिए देना होगा 200 रुपये का शुल्क।
बीते वर्ष मार्च में उत्तर रेलवे ने एक्सेस-कंट्रोल पार्किंग सिस्टम की शुरुआत की थी जिसे महामारी के चलते रोका गया था।

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर अजमेरी गेट की तरफ कैब और अन्य चार पहिया वाहनों के द्वारा लगने वाले ट्रैफिक जाम से निजात पाने के लिए उत्तर रेलवे ने पिकअप-ड्रॉपिंग लेन में एंट्री शुल्क की शुरुआत कर दी है। बीते वर्ष मार्च में उत्तर रेलवे ने एक्सेस-कंट्रोल पार्किंग सिस्टम की शुरुआत की थी, लेकिन कोरोना महामारी के चलते पिकअप-ड्रॉपिंग लेन में एंट्री शुल्क को रोक दिया गया था। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बीते शुक्रवार को राज्यसभा में एक्सेस-कंट्रोल पार्किंग सिस्टम को फिर से शुरू करने की सूचना दी।

प्राइवेट और व्यावसायिक वाहनों को देना होगा एंट्री शुल्क

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन में गाड़ियों द्वारा लगने वाले जमावड़े को रोकने के लिए शुल्क निर्धारित कर दिए हैं। जिसके तहत नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर अजमेरी गेट की तरफ से किसी को पिकअप या ड्रॉप करने जा रही गाड़ी को पार्किंग लेन में बिना कोई शुल्क दिए 8 मिनट से ज्यादा नहीं ठहरने दिया जायेगा। इसके बाद भी अगर कोई व्यावसायिक वाहन 8 मिनट तक भी रुकता है तो उसे एंट्री फीस के लिए 30 रुपये देने होंगे।

अगर कोई निजी और कमर्शियल वाहन 8 से 15 मिनट तक रुकता है तो 50 रुपये का शुल्क देना पड़ेगा। जबकि 15 मिनट से 30 मिनट रुकने के लिए 200 रुपये का शुल्क देना पड़ेगा। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि ’30 मिनट से ज्यादा पिकअप या ड्रॉपिंग की अनुमति नहीं दी जाएगी। जो यात्री आधे घंटे से ज्यादा अपनी गाड़ी को पार्क करना चाहते हैं, तब वे अधिकृत पार्किंग क्षेत्र में अपने वाहन खड़े कर सकते हैं, जिसके रेट फिक्स हैं।’

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *