मुख्य बिंदु

अब भारत में 2 से 18 साल तक के बच्चों को भी लगाई जायेगी वैक्सीन।
भारत सरकार ने दो से 18 साल तक के बच्चों के लिए कोवैक्सीन के आपात इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है।
कोवैक्सीन देश की ऐसी पहली वैक्सीन बन गई है, जिसे बच्चों पर आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली हो। 
ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के मुताबिक, बच्चों को वैक्सीन की 2 डोज दी जाएंगी।
जल्द वैक्सीन लगाने को लेकर केंद्र सरकार की ओर से दिशानिर्देश भी जारी कर दिए जांएगे।

भारत में बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने अपनी मंजूरी दे दी है। देश में अब 2 से 18 साल तक के बच्चों को कोवैक्सिन की 2 डोज दी जाएगी। देश में बच्चों को दी जाने वाली यह पहली वैक्सीन है, जिसे बच्चों के लिए कारगर माना गया है। भारत बायोटेक बच्चों के लिए वैक्सीन बनाने में काफी समय से जुटी हुई थी और सितंबर के महीने में बच्चों पर क्लीनिकल ट्रायल्स पूरे किये थे जिसमें कोवैक्सिन 78 फीसदी असरदार साबित हुई थी। भारत बायोटेक की ओर से जमा किये गए डाटा का ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने आकलन किया था जिसके बाद DCGI ने और एडिशनल डाटा मांगा था जिसे बीते शनिवार को भारत बायोटेक ने जमा कर दिया था। इसके बाद सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने DGCI को 2 से 18 साल तक के बच्चों के लिए भारत बायोटेक की कोवैक्सिन के इस्तेमाल की सिफारिश की।

भारत में 95 करोड़ से अधिक लोगों को दी गई वैक्सीन की डोज

भारत बायोटेक ने एक हफ्ते पहले 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए इस्तेमाल होने वाली कोविड वैक्सीन टीके ‘कोवैक्सीन’ का दूसरा परिक्षण पूरा कर लिया था और इसके सत्यापन तथा आपातकालीन उपयोग की मंजूरी के लिए आंकड़े केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) को सौंप दिए थे। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए पूरे देश में व्यापक स्तर पर लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। देश में अब तक 95 करोड़ से अधिक वैक्सीन की डोज लोगों को दी जा चुकी है। जिसमें से करीब 68,30,09,792 पहली डोज और 26,89,74,581 लोगों को दूसरी डोज दी जा चुकी है। देश में अभी कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक-वी टीके केवल 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को दिए जा रहे हैं। इनकी दो खुराक दी जाती हैं। जबकि इसके विपरीत जायकोव-डी तीन-खुराक वाला टीका है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *