मुख्य बिंदु

भारत सरकार ने 15 दिसम्बर से शुरू होने वाली कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को स्थगित कर दिया गया।

यह कदम नवीनतम वैरिएंट ओमीक्रॉन के कारण कोरोना मामलों में वृद्धि को देखते हुए लिया गया।

केंद्र ने ओमाइक्रोन वैरिएंट के आलोक में भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए नियम जारी किए।

‘हाई रिस्क वाले’ देशों से आने वाले यात्रियों को भारत में कोरोना सम्बंधित नियमों का पालन करना होगा।

भारत सरकार ने कुछ ही दें पहले निर्णय लिया गया कि भारत 15 दिसंबर से कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करेगा। लेकिन अब नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने बुधवार को भारत से या भारत आने वाले कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय यात्री एयरलाइन सेवाओं को फिर से शुरू करने के निर्णय को स्थगित कर दिया है। यह कदम कोरोनावायरस के नवीनतम वैरिएंट ओमीक्रॉन के कारण कोरोना मामलों में वृद्धि को देखते हुए लिया गया है।

पिछले महीने के अंत में एक बैठक में केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि 20 महीने से अधिक के लंबे अंतराल के बाद एक बार फिर कमर्शियल अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 15 दिसंबर से शुरू होंगी। लेकिन अब सरकार ने कोरोना के नए वैरिएंट मिलने के कारण और देश में लोगों की इस वायरस से सुरक्षा को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को ना शुरू करने का फैसला लिया है।

केंद्र ने ओमाइक्रोन वैरिएंट के आलोक में भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए नियम जारी किए थे, जो आज से लागू हो गए। नए नियमों के अनुसार, ‘हाई रिस्क वाले’ देशों से आने वाले यात्रियों को भारत में आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाना होगा और यदि टेस्ट पॉजिटिव आता है तो उन्हें आइसोलेट कर दिया जाएगा। साथ ही, जिन लोगों का टेस्ट नेगेटिव आया, उन्हें सात दिनों के लिए घर में आइसोलेट रहना होगा और इसके बाद भारत आने के आठवें दिन दोबारा टेस्ट करवाना होगा।

पिछले साल मार्च 2020 में कोरोनोवायरस महामारी के अचानक फैलने के कारण भारत में अंतरराष्ट्रीय उड़ानें निलंबित थीं, 31 देशों के साथ गठित एयर बबल व्यवस्था के तहत पिछले साल जुलाई से विशेष अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें संचालित हो रही हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *