जरूरी बातें

दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे से न सिर्फ दिल्ली और दून के बीच का सात-आठ घंटे का सफर ढाई घंटे में पूरा हो सकेगा बल्कि सहारनपुर (उत्‍तर प्रदेश) के पास गणेशपुर से डाटकाली मंदिर के बीच एक घंटे का सफर महज 15 मिनट में पूरा होगा।
पूरी यात्रा में समय 6.5 घंटे के बजाय सिर्फ 2.5 घंटे ही लगेगा।
100 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चलेंगे वाहन।
इकोनॉमिक कॉरिडोर पर बनेगी एशिया की सबसे लंबी 12 किलोमीटर की वन्यजीव एलिवेटेड रोड।
यह एलिवेटेड रोड 14 सुरंगों से होकर गुजरेगी।

Pictorial Representation

अब दिल्ली से देहरदून जाने वाले यात्रियों को सिर्फ 210 किलोमीटर का सफर तय करना पड़ेगा। दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे का निर्माण पूर्ण हो जाने के बाद दिल्ली से देहरादून के बीच की 235 किलोमीटर की दूरी इस हाईवे से 210 किलोमीटर रह जाएगी। यह इतना तेज़ होगा कि सफर में समय 6.5 घंटे के बजाय सिर्फ़ 2.5 घंटे ही लगेगा। इस एक्सप्रेसवे पर चलने वाले वाहनों की रफ़्तार कम से कम 100 किमी प्रति घंटा रखी जायेगी।175 किलोमीटर लंबा यह एक्सप्रेस-वे करीब 8500 करोड़ की लागत से तैयार किया जाएगा।

बनाया जायेगा दिल्ली-देहरादून इकोनॉमिक कॉरिडोर

इस एक्सप्रेसवे के लिए दिल्ली-देहरादून इकोनॉमिक कॉरिडोर भी स्थापित किया जाएगा। इस इकोनॉमिक कॉरिडोर पर एशिया की सबसे लंबी 12 किलोमीटर की वन्यजीव एलिवेटेड रोड होगी जो वन क्षेत्र से होकर गुज़रेगी। यह एलिवेटेड रोड 14 सुरंगों से होकर गुज़रेगी जिसे स्टेट ऑफ द आर्ट तकनीक के तौर पर विकसित करा जाएगा। 6 लेन की यह रोड जंगलों के हसीन नज़ारों के बीच से होकर गुज़रेगी। 12 किलोमीटर का यह कॉरिडोर दो खंडों में बनाया बनाया जाएगा। पहले खंड को मोहंद और दाता काली मंदिर के बीच 12 किलोमीटर की दूरी पर बनाया जाएगा। वहीँ दूसरा खंड दाता काली मंदिर से आगे आशरोड़ी तक बनाया जाएगा।

कनेक्टिविटी के लिए बनाये जाएंगे 7 इंटरचेंज

इस एक्सप्रेसवे पर हरिद्वार, मुजफ्फरनगर, शामली, यमुनानगर, मेरठ, बागपत और बड़ौत से कनेक्टिविटी के लिए सात प्रमुख इंटरचेंज होंगे। साथ ही 750 से ज्यादा वर्षा जल संचयन और वाटर रिचार्ज प्वाइंट भी होंगे। एक्सप्रेसवे का निर्माण पूरा होने के बाद दिल्ली से देहरादून की यात्रा छह घंटे से घटकर ढाई घंटे की हो जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *