मुख्य बातें

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए ऑटो-रिक्शा बुक करने पर 5% जीएसटी लगेगा।
इस संशोधन का ई-कॉमर्स उद्योग फर्मों पर सीधा प्रभाव पड़ेगा जो बड़ी संख्या में ऑटो रिक्शा चालकों की आपूर्ति करते हैं।
नया नियम 1 जनवरी, 2022 से लागू होगा।

नए साल 2022 से ओला-उबर जैसी ऐप आधारित ई-कॉमर्स कंपनियों से ऑटो बुक करना लोगों को महंगा पड़ेगा। जनवरी 2022 से ऐप से ऑटो बुक करने पर 5 परसेंट जीएसटी (GST) माल एवं सेवा कर देना होगा। वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग ने बताया कि ई-कॉमर्स प्‍लेटफॉर्म्‍स के जरिए यात्री परिवहन सेवाएं प्रदान करने वाले ऑटो रिक्शा के लिए उपलब्ध जीएसटी (GST) छूट को वापस ले लिए है। अब अगर आप कहीं जाने के लिए ई-कॉमर्स प्‍लेटफॉर्म्‍स से 100 रुपये में ऑटो बुक करते हैं तो आपको इसके लिए 105 रुपये चुकाने होंगे। वहीं, अगर आप ऑफलाइन तरीके से ऑटो-रिक्शा बुक करते हैं तो आपको जीएसटी (GST) नहीं देना होगा।

महंगी होंगी ऑनलाइन सेवाएं

जानकारी के अनुसार 1 जनवरी 2022 से किसी भी ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से मिलने वाली सेवाएं 5% की दर से कर-कटौती के अंतर्गत आएंगी। ऐसा माना जा रहा है कि इस नए संशोधन से ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स पर इसका सीधा असर पड़ेगा। ऑनलाइन माध्यम से मिलने वाली सेवाएं महंगी हो जाएंगी और लोगों को अधिक कीमत चुकानी पड़ेगी। ओला-उबर से ऑटो बुक करना लोगों के लिए बेहतर और आसान विक्लप है जिसका जरिये लोग बिना किसी परेशानी के आने जाने के लिए ऑटो बुक कर लेते हैं। लेकिन अब 5 परसेंट जीएसटी (GST) के साथ यह सेवा महंगी हो जाएगी। हालांकि ऑफलाइन तरीके से ऑटो सेवाओं को जीएसटी (GST) के बाहर रखा गया है।

Read More :- गोवा में ई-कॉमर्स और फूड डिलीवरी फर्म जल्द ही एक पूरी तरह से इलेक्ट्रिक वाहनों का प्रयोग कर सकती हैं

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *