भारत का सनशाइन राज्य को देश की पार्टी राजधानी भी कहा जा सकता है, जहां साल भर शानदार समुद्र तटों के किनारे पर्यटकों की भीड़ उमड़ती है। लेकिन अगर आप सामान्य और लोकप्रिय स्थानों से परे देखेंगे, तो इस तटीय राज्य में देखने के लिए और भी बहुत कुछ खूबसूरत है। उत्तरी गोवा में कैलंगुट और बागा के साथ दक्षिण या अंदरूनी इलाकों की ओर भी जाने पर आपको गोवा की अनछुई,अनदेखी सुंदरता का परिचय मिलेगा।

ऐसा ही एक स्थान है दिवर आइलैंड (Diwar Island) जहाँ की खूबसूरती इतनी मनमोहक है की मानो वहां समय जैसे थम सा जाता हो। गोवा की राजधानी से मुश्किल से 10 किमी की दूरी पर स्थित, यह द्वीप सहज आकर्षण, सुंदरता और शांति का पर्याय है। यह केवल नौका सेवाओं के माध्यम से पुराने गोवा से जुड़ा है, यदि आपको भी पुरानी पुर्तगाली वास्तुकला आकर्षित करती है तो महामारी के प्रभाव कम होने पर दिवर द्वीप की यात्रा की योजना बनाएं।

इतिहास और पार्टी प्रेमियों को यह जगह समान रूप से पसंद आती है


गोवा की सामान्य ज़ोरदार पार्टी संस्कृति से अलग, दिवर द्वीप कई लोक उत्सवों का आयोजन करता है जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। अगस्त में पिएडेड गांव के निवासियों द्वारा मनाया जाने वाला बोंदरम, कार्निवल के समान एक त्योहार है, जिसका संगीत के साथ आनंद लिया जाता है और लोग रंगीन कपड़े पहनते हैं। अन्य उत्सवों में पोटेकर शामिल हैं, जिसे आमतौर पर हैलोवीन के भारतीय संस्करण के रूप में जाना जाता है, और हमारे लॉर्ड रिडीमर का पर्व, जिसे नवंबर में पारंपरिक दावत द्वारा मनाया जाता है।

कदंब राजवंश के खंडहर जैसी प्राचीन संरचनाएं, 400 साल पुराना साओ माथियास चर्च और 12वीं सदी का नरोआ का भूतिया शहर, घूमने के लिए बेहतरीन जगह हैं। माना जाता है कि नरोआ में कोटि तीर्थ ताली के परिसर में 108 मंदिरों का निर्माण किया गया है। जबकि दिवार द्वीप में कई दर्शनीय स्थल नहीं हैं, लेकिन पुर्तगाली-युग की वास्तुकला के साथ सुरम्य दृश्यों देखने योग्य है।

नॉक नॉक

पारंपरिक गोअन समर ड्रिंक, उरक परोसने के अलावा, यह द्वीप अपने समुद्री भोजन- विशेष रूप से प्रॉन्स के लिए भी प्रसिद्ध है। इसलिए घने जंगलों और हरे-भरे रंगों के बीच में एक राहत भरा ब्रेक लें और अपनी यात्रा की योजना तुरंत बना लें। हालाँकि, कृपया कोरोना से संबंधित प्रोटोकॉल का पालन करते रहें।