अपने सुरम्य समुद्र तटों, नाइटलाइफ़ और पुर्तगाली वास्तुकला से प्रेरित संरचनाओं लिए प्रसिद्ध, गोवा, ऐतिहासिक महत्व वाली जगहों का भी घर है। तटीय राज्य में ऐसे सबसे कम ज्ञात स्थानों में से एक ब्रिटिश समाधि स्थल है, जो कुछ समय के लिए गोवा पर उनके कब्जे की याद दिलाता है। इस संरक्षित स्थल के खंडहर डोना पौला में राजभवन की ओर जाने वाली सड़क पर देखे जा सकते हैं

गोवा पर अंग्रेज़ों का कब्जा

ब्रिटिश और गोवा के संबंध के बारे में आमतौर पर लोगों को नहीं पता होता है। पुर्तगाल के सहयोगी के रूप में अंग्रेजों ने नेपोलियन युद्ध के दौरान वास्तव में गोवा में प्रवेश किया था। पुर्तगाली अपने साम्राज्य को फ्रांसीसी और उनकी सहयोगी नौसेनाओं से अपने साम्राज्य की रक्षा करने में असमर्थ होने के बारे में चिंतित थे, ब्रिटिश इस परिस्थिति में उनका सर्मथन और रक्षा करने के लिए तैयार थे।

फिर उन्होंने रक्षा में पुर्तगालियों की सहायता के लिए एक रॉयल नेवल स्क्वाड्रन भेजा। अंग्रेजों ने गोवा में जो कम समय बिताया था, उसके कारण, इस जीर्ण-शीर्ण कब्रगाह के अलावा, यहां शायद ही कोई संबंधित स्मारक हैं।

इस कब्रिस्तान में आखिरी बार किसी को 1912 में दफनाया गया था

यह ऐतिहासिक स्थल पुर्तगालियों के इस पूर्व उपनिवेश में केवल एक दशक से अधिक समय से अंग्रेजों की उपस्थिति का प्रतीक है। कब्रिस्तान में कुल 56 ग्रेवस्टोन और 47 मकबरे हैं, जहां वर्ष 1808 से 1912 तक लोगों को दफनाया गया था। कहा जाता है कि इस क्षेत्र में मारे गए ब्रिटिश सैनिकों, गणमान्य व्यक्तियों, कमांडरों और उनके परिवारों को यहां दफनाया गया था।

जनता के लिए स्थायी रूप से बंद है ये जगह

इस स्मारक को बचाने के लिए अभिलेखागार और पुरातत्व विभाग ने 2009 में इस स्मारक के जीर्णोद्धार की एक बड़ी प्रक्रिया को अंजाम दिया था। 2017 में, विभाग द्वारा एक और मरम्मत कार्य किया गया था, जिसमें पीछे की ओर परिसर की दीवार का पुनर्निर्माण और प्रवेश द्वार के मुख्य मेहराब को बहाल करना शामिल था। हालाँकि यह जगह जनता के लिए स्थायी रूप से बंद है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *