घातक ब्लैक फंगस संक्रमण पूरे भारत में महामारी के दूसरी लहर के दौरान कोविड रोगियों के लिए एक बड़े संकट के रूप में उभरा है। सोमवार को, गोवा के एपेक्स अस्पताल में म्यूकोर्मिकोसिस के रोगियों की संख्या 10 थी। जहां एक मरीज ने इस बिमारी के चलते दम तोड़ दिया, वहीं अन्य 9 अभी भी इस संक्रमण के खतरों से लड़ रहे हैं। अस्पताल के अधिकारी यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि एक समर्पित वार्ड की स्थापना करके इन रोगियों को उचित उपचार मिले, जहां मल्टीस्पेशलिटी डॉक्टर इनका इलाज करेंगे।

3 संक्रमित मरीजों को सर्जरी की जरूरत है

महामारी की दूसरी लहर के बीच, गोवा कोविड के बाद ब्लैक फंगस संक्रमण की भयावहता का शिकार हो गया है। जैसा कि सोमवार को बताया गया था, गोवा के एपेक्स अस्पताल में काले फंगस वाले कोविड रोगियों की संख्या दोहरे अंकों में पहुंच कर 10 हो गई है।

इन 10 रोगियों में से, 6 का इलाज चल रहा है, 3 को सर्जरी की आवश्यकता है, और रोगियों में से एक का पिछले सप्ताह उच्च सीटी स्कोर के कारण निधन हो गया। अधिकारियों ने कहा कि वर्तमान में काले फंगस संक्रमण से पीड़ित सभी रोगियों को कोविड उपचार के दौरान स्टेरॉयड (steroids) दिया गया था। इसके अलावा, यह भी बताया गया है कि ये सभी रोगी उच्च मधुमेह से पीड़ित हैं।

ब्लैक फंगस रोगियों के लिए बनाए गए विशेष वार्ड

ब्लैक फंगस के उपचार के लिए मल्टीस्पेशलिटी की आवश्यकता होती है, इसलिए विभिन्न विभागों के सलाहकार एक दूसरे के सहयोग से काम करेंगे। इसके अलावा, एक विशेष स्थान- वार्ड संख्या 102, मेडिकल कॉलेज में विशेष रूप से उन रोगियों के इलाज के लिए समर्पित किया गया है जो ब्लैक फंग से संक्रमित हैं।

– आइएनएस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *