महामारी की स्थिति में सुधार को देखते हुए, पूरे देश में अंतरराज्यीय परिवहन सुविधाओं को दुबारा शुरू किया जा रहा है। नवीनतम घटनाक्रम के अनुसार, उत्तर-पश्चिम कर्नाटक सड़क परिवहन निगम ने 2 महीने के लंबे ठहराव के बाद गोवा के लिए बस सेवा को फिर से शुरू किया। रिपोर्ट के अनुसार, NWKRTC के अधिकारियों ने सभी यात्रियों की सुरक्षा के लिए व्यापक उपाय किए हैं, साथ ही यह सुनिश्चित किया है कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाए।

यात्रियों के लिए नेगेटिव कोविड रिपोर्ट अनिवार्य है

 विशेष रूप से, गोवा यात्रा नियमों में कहा गया है कि यात्रियों को राज्य में प्रवेश करने से पहले 72 घंटे के भीतर किए गए परीक्षण की एक नेगेटिव रिपोर्ट ले जाना अनिवार्य है। जबकि इस प्रतिबंध में टीके की दोनों डोज़ लगवाने वाले राज्य के निवासियों और श्रमिकों को छूट दी गई है, अधिकारी सभी पूर्ण टीकाकरण करवाने वाले आगंतुकों के लिए प्रोटोकॉल को बदलने पर विचार कर रहे हैं।

कर्नाटक और गोवा की पारस्परिक निर्भरता को देखते हुए, बहुत से लोग नियमित रूप से काम से संबंधित उद्देश्यों के लिए दोनों राज्यों के बीच आवागमन करते हैं। कथित तौर पर, व्यक्तियों की एक बड़ी संख्या अक्सर हुबली-धारवाड़ क्षेत्र से गोवा की यात्रा करती है, लेकिन इनमें से अधिकांश यात्रियों को बार-बार टेस्टिंग करवाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। कई अन्य परेशानियों के अलावा, परीक्षणों का वित्तीय बोझ भी यात्रियों के लिए समस्याएँ पैदा करता है। इसे देखते हुए, अधिकारियों ने एक निर्दिष्ट बस स्टॉप पर एक नि: शुल्क परीक्षण सुविधा शुरू की है।

कोविड-उपयुक्त व्यवहार है समय की ज़रूरत

प्रतिबंधों में ढील के बीच, दुबारा संक्रमण के प्रसार की संभावनाओं को कम करने के लिए, कोविड उपयुक्त व्यवहार सबसे अच्छा उपाय है। इसलिए, यात्रा के दौरान सभी व्यक्तियों द्वारा मास्क और सैनिटाइटर का उपयोग और सामाजिक दूरी का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *