महिला सशक्तिकरण के विचार को ज़मीनी स्तर पर मजबूत करने के लिए, गोवा के मुख्यमंत्री ने एक इनोवेटिव ऑनलाइन प्लेटफॉर्म www.goabazaar.org लॉन्च किया है। रिपोर्ट के अनुसार, यह ऑनलाइन सुविधा सेल्फ-हेल्प समूहों में काम करने वाली महिलाओं द्वारा घर के बने उत्पादों को बाजार प्रदान करेगी। कथित तौर पर, सीएम ने यह भी कहा कि प्रशासन सार्वजनिक स्थानों पर जगह देखेगा ताकि एसएचजी-निर्मित उत्पादों को बेचने के लिए स्टॉल लगाए जा सकें।

स्थानीय रूप से उत्पादित वस्तुओं की एक विस्तृत श्रृंखला वेबसाइट पर उपलब्ध रहेगी 

रिपोर्ट के अनुसार, तटीय राज्य के सीएम ने उल्लेख किया कि वेबसाइट की शुरुआत के साथ देशी रूप से निर्मित वस्तुएं,अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों को आकर्षित करने में सक्षम होंगी। वेबसाइट पर घर के बने गोवा व्यंजनों, हस्तशिल्प और घरेलू सजावट उत्पादों सहित अनेक वस्तुएं मौजूद रहेंगी।

इसके अतिरिक्त, रिपोर्ट में कहा गया है कि जैविक कृषि उत्पाद, कढ़ाई के काम वाली वस्तुएं और कुछ अन्य सेवाएं भी उपलब्ध होंगी। रिपोर्ट के मुताबिक, ऑनलाइन इंटरफेस पर 150 से ज्यादा स्वयं सहायता समूहों के सामान दिखाए जाएंगे। इसके अलावा, यह उम्मीद की जाती है कि भविष्य में और अधिक आइटम जोड़े जाएंगे। दिलचस्प बात यह है कि उपभोक्ता वेबसाइट पर अपनी पसंद के उत्पाद का पता लगा सकते हैं और कलाकार के बारे में जानकारी भी प्रदान की जाएगी।

राज्य में महिला सशक्तिकरण में तेजी लाने का प्रयास

सरकार ऐसे उत्पादों की रिटेल बिक्री के लिए बस स्टॉप जैसे सार्वजनिक स्थानों पर जमीन उपलब्ध कराने के लिए भी काम कर रही है। कथित तौर पर, ग्रामीण विकास मंत्री ने सीएम से स्टालों की स्थापना के लिए 10 विभिन्न स्थानों पर भूमि आवंटित करने का अनुरोध किया है।

रिपोर्ट के अनुसार, गोवा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन (जीएसआरएलएम) ने लगभग 3,000 स्वयं सहायता समूहों को शामिल किया है और बड़ी संख्या में परिवार लाभान्वित हो रहे हैं। इस पहल का एक प्रमुख उद्देश्य महिलाओं के बीच वित्तीय स्वतंत्रता को बढ़ावा देना है। महिलाओं के आर्थिक उत्थान के साथ, सरकार ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और स्थानीय उद्योग में सुधार की कल्पना करती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *