गोवा में पर्यटक टैक्सियों में अब एक आटोमेटिक जीपीएस-लिंक्ड डिस्ट्रेस बटन होगा, जो उनके डिजिटल मीटर से जुड़ा होगा, जो तुरंत स्थानीय पुलिस को ट्रिगर करेगा। गोवा के परिवहन मंत्री का कहना है कि किसी भी दुर्घटना के मामले में, यह सुविधा यात्रियों की सहायता करेगी। कथित तौर पर, इस विशेषता को विशेष रूप से राज्य में महिला पर्यटकों की सुरक्षा के लिए शामिल किया गया है।

पैनिक बटन वाली कैब, जीपीएस और लोकेशन ट्रैकर

गोवा में बॉम्बे हाईकोर्ट की बेंच द्वारा परिचालित निर्देश के अनुसार, राज्य में सभी पर्यटक टैक्सियों में डिजिटल मीटर की स्थापना अनिवार्य है। नतीजतन, इन कैब में अब पैनिक बटन, जीपीएस सिस्टम और एक लोकेशन ट्रैकर होगा, जिसका उद्देश्य पर्यटकों की सुरक्षा और कल्याण का ध्यान देना है।

डिस्ट्रेस बटन कैसे काम करेगा?

ये पैनिक बटन यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और बढ़ाने की दिशा में एक कदम है, जो किसी भी तरह से खतरा महसूस होने पर इस सुविधा का उपयोग कर सकते हैं। एक बार दबाए जाने के बाद, संकट बटन तुरंत सर्वर से जुड़ जाएगा और राज्य के कंट्रोल रूम को अलर्ट भेज देगा।

इसके बाद कंट्रोल रूम इस अलर्ट को संबंधित क्षेत्र के पुलिस स्टेशन को भेजेगा और कैब तुरंत स्थिर हो जाएगी; तदनुसार आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। यह प्रावधान गोवा की कैब सेवाओं द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं का एक हिस्सा होगा। 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *