कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान पूरे देश में सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट गोवा में दर्ज किया गया था, पिछली बार की गलतियों से सबक लेते हुए गोवा सरकार ने अनुमानित तीसरी लहर का मुकाबला करने की तैयारी शुरू कर दी है। ऐसा माना जा रहा है कि इस लहर में सबसे अधिक बच्चे प्रभावित होंगे।

रिपोर्ट के अनुसार, सरकार बच्चों को कोविड संक्रमण से बचाने और उनके इलाज के लिए एसओपी तैयार करने के लिए एम्स के साथ काम कर रही है। इसके अलावा, बाल चिकित्सा आईसीयू की संख्या बढ़ाने का फैसला भी लिया गया है और आगामी स्थिति से निपटने के एक विशेष टास्क फोर्स तैनात की गई है।

बच्चों की मदद के लिए 120 पीडियाट्रिशन आगे आए

विशेषज्ञों ने दावा किया है कि कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर के दौरान सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित होंगे। गोवा सरकार ऐसी स्थिति से निपटने के लिए चिकित्सा के बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाने की तैयारी कर रही है। तीसरी लहर का मुकाबला करने के लिए और चिकित्सा व्यवस्था में सुधार करने के लिए कोविड प्रबंधन और बाल रोग विशेषज्ञों के लिए एसओपी तैयार कर रहा है। एसओपी एम्स के समन्वय से तैयार किए जाएंगे और इसके लिए सभी चिकित्सा देखभाल करने वालों और परामर्शदाताओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। इस स्थिति में मदद के लिए निजी क्षेत्र के 120 बाल रोग विशेषज्ञों को भी लगाया गया है।

पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट के बेड की संख्या बढ़ाई जाएंगी

बाल चिकित्सा देखभाल के बुनियादी ढांचे को बेहतर बनाने के लिए, गोवा मेडिकल कॉलेज में 10-बेड वाली एनआईसीयू (neonatal intensive care unit) स्थापित की जाएगी, साथ ही एक अन्य सरकारी अस्पतालों में भी इस तरह की 5-बेड की सुविधा होगी। कथित तौर पर, जीएमसी में पीआईसीयू (पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट) बेड को 8 से बढ़ाकर 14 कर दिया जाएगा और इसके सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में 60 बेड का नया पीआईसीयू स्थापित किया जाएगा। इसके अलावा, यह निर्णय लिया गया है कि ज़रूरत पड़ने पर 20 बेड वाले आईसीयू को पीआईसीयू में परिवर्तित किया जा सकता है। इसके अलावा, इस बात पर भी जोर दिया गया है कि माता-पिता को काउंसलिंग दी जानी चाहिए, ताकि वे होम आइसोलेशन में सभी नियमों का पालन कर पाएं। राज्य सरकार ने तीसरी लहर से निपटने के लिए कई रणनीतियों पर काम करने के अलावा स्पेशल टास्क फोर्स का भी गठन किया है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *