महामारी के दूसरे दौर ने प्रशासनिक अधिकारियों के मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक क्षमताओं को बुरी तरह प्रभावित किया है। इसीलिए, उनकी संपूर्ण भलाई को ध्यान में रखते हुए गोवा सरकार सरकारी कर्मचारियों के कल्याण और इम्युनिटी को बढ़ावा देने के लिए ऑनलाइन टेस्ट सेशन आयोजित करेगी। ये सेशन आर्ट ऑफ लिविंग फाउंडेशन के सहयोग से किए जाएंगे और उम्मीद है कि यह कर्मचारियों को कोरोना से संबंधित अपने कर्तव्यों का पालन करने में आने वाली चुनौतियों पर काबू पाने में मदद करेगा।

3 दिन की अवधि के लिए ऑनलाइन कक्षाएं    

बुधवार को, गोवा के सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा एक सर्कुलर जारी किया गया है जिसमें कहा गया है कि ऑनलाइन कक्षाएं तीन दिनों के समय में होंगी। सभी अफसरों और सरकारी कर्मचारियों को स्वास्थ्य संबंधी चुनौतियों से निपटने के लिए ट्रेन किया जाएगा ताकि वे “ऊर्जा और वीरता के साथ कर्तव्यों का पालन कर सकें”।

यह एक विशेष कार्यक्रम है जो नॉन-कोविड और पॉजिटिव (हल्के या मध्यम) व्यक्तियों की मदद करेगा। इसके अलावा, यह कोविड देखभाल कार्यक्रमों के माध्यम से संक्रमण के बाद की रिकवरी में भी सहायता करेगा जो इम्युनिटी को बढ़ावा देकर फेफड़ों की क्षमता में सुधार करेगा, बेहतर मानसिक स्वास्थ्य, तनाव कम करेगा और इन व्यक्तियों को योगासनों में संलग्न करेगा।

ये सेशन एक योग्य कदम है क्योंकि नयी रिसर्च से पता चला है कि योग शिक्षक और चिकित्सक,रोगियों के साथ उनकी बीमारी और संबंधित जटिलताओं को कम करने के लिए सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं। स्टैण्डर्ड जर्नल में प्रकाशित रिसर्च द्वारा यह बताया गया है कि उज्जयी और प्राणायाम प्रथाओं के समान “श्वास नियंत्रण” तकनीक गंभीर खांसी और सांस की तकलीफ को कम करती है। 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *