गोवा प्राकर्तिक सुंदरता से भरपूर है और रेत पर बैठकर समुद्र में पड़ने वाली सूरज की किरणों की चमक देखने के लिए लोग यहां दूर दूर से आते हैं। गोवा एक पर्यटन स्थल के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्द है, और इन्ही व्यावसायिक गतिविधियों के चलते राज्य के इकोसिस्टम को काफी नुक्सान हुआ है। इसी पर्यावरण की स्थिति को सुधारने के लिए गोवा सरकार ने कई प्रयास किये हैं। इस संकल्प को आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि राज्य सरकार सौ जल निकाय बनाएगी और अधिक से अधिक पेड़ लगाएगी। इस बात से मुख्यमंत्री ने प्रत्येक वर्ष 5 जून को मनाए जाने वाले विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर राज्य निवासियों को संबोधित किया है।

मनुष्यों और पशुओं के संघर्ष को कम करने की पहल 

गोवा के मुख्यमंत्री ने कहा है कि वन क्षेत्रों में 100 जल निकाय बनाने के अलावा, 2021 में फल देने वाली किस्मों के 5 लाख से अधिक पौधे लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने शनिवार को राज्य के नागरिकों से बात करते हुए कहा कि इस प्रयास से राज्य में मनुष्यों और पशुओं के संघर्ष को कम करने में भी मदद मिलेगी।

इसके अलावा, राज्य सरकार वाइल्डलाइफ सैंक्चरी के विकास पर ध्यान केंद्रित कर रही है क्योंकि वे गोवा के इकोसिस्टम में संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। राज्य के वन विभाग ने 250 युवाओं को प्रशिक्षित किया है जो अब वन गाइड के रूप में काम करेंगे और पर्यावरण में स्थिरता लाने के कार्य में सहायता करेंगे।

गोवा के इकोसिस्टम में मौजूदा गड़बड़ी औद्योगिकीकरण (Industrialisation), माइनिंग और पर्यटन सहित कई व्यावसायिक गतिविधियों के अधिक बढ़ने के कारण हुई है। इसलिए, राज्य के वेटलैंड और प्राकृतिक पर्यावरण के अन्य पहलुओं को काफी नुकसान हुआ है। राज्य सरकार की इन पहलों से इस प्रकार के हुए नुकसान को कम करने की उम्मीद है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *