तेज हवाओं और भारी बारिश के साथ, चक्रवात तौकते ने गोवा के कोविड केयर सेंटर्स को बुरी तरह प्रभावित किया है। इसके परिणामस्वरूप, कई केंद्रों ने खराब मौसम की स्थिति का सामना किया और अभी हाल ही में शुरू हुए एक सुपर-स्पेशलिटी ब्लॉक में भी बाढ़ आ गई। इसके अलावा, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इनडोर स्टेडियम में संचालित आइसोलेशन सेंटर में भी भारी तबाही देखी गई और काफी नुकसान हुआ।

समस्या को हल करने के लिए तत्काल उपायों की है आवश्यकता


वर्तमान समस्याओं को संबोधित करते हुए, मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि राज्य में इतनी अधिक क्षमता वाला चक्रवात कभी नहीं देखा गया। नतीजतन, बारिश और हवा ने काफी अशांति पैदा की है, लेकिन समस्याओं को हल करने के लिए आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं। इस बीच इंटरनेट पर अत्यधिक पानी जमा होने के वीडियो वायरल हो रहे हैं। सुविधा में भर्ती मरीजों की अधिक संख्या को देखते हुए, संबंधित अधिकारियों के लिए स्थिति को जल्द से जल्द नियंत्रित करना महत्वपूर्ण है।

राज्य भर में बिजली और पानी की सप्लाई हुई बंद


चक्रवात के कारण राज्य में कई पेड़ उखड़ गए हैं और साथ ही 700 खंभे और 200 ट्रांसफार्मर टूट जाने से बिजली की व्यवस्था बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई है। इसके परिणामस्वरूप राज्य के कई क्षेत्रों में बिजली और पानी की सप्लाई बंद कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा, "गृह मंत्री ने राज्य में चक्रवात से हुई व्यापक क्षति के बारे में पूछताछ की और राज्य में स्थिति को दोबारा सामान्य बनाने के लिए सभी सेंट्रल एजेंसियों के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया। हम चक्रवात से प्रभावित गोवा को सभी आवश्यक सहायता प्रदान करेंगे।"

जहां सरकार की प्राथमिकता राष्ट्रीय राजमार्गों पर अवरोधों को दूर करने के लिए कदम उठाना है, वहीं सीएम ने यह भी पुष्टि की है कि 18 मई तक ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली वापिस आ जाएगी।

इसके अतिरिक्त, राज्य में मोबाइल नेटवर्क कवरेज भी प्रभावित हुआ है। इस संबंध में, सीएम ने कहा, "गोवा में लोग तौकते चक्रवात के कारण मोबाइल नेटवर्क संबंधी समस्यायों का भी सामना कर रहे हैं। इंट्रा-सर्कल रोमिंग (आईसीआर) सुविधा अब पूरे गोवा में सक्रिय हो गई है। आप अपने डिवाइस की मैन्युअल सेटिंग्स में जाकर किसी भी नेटवर्क पर स्विच कर सकते हैं जो आपके क्षेत्र में उपलब्ध है।"

- आइएएनएस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार