शुक्रवार को, गोवा प्रशासन ने लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया, जो मूल रूप से 23 मई को समाप्त होने वाला था। चूंकि देश में लक्षद्वीप के बाद, दूसरे नंबर पर सबसे अधिक पॉजिटिविटी रेट गोवा में है, यह कदम इस दर को कम करने और कोरोना के ग्राफ में गिरावट लाने के उद्देशय से उठाया जा रहा है। वर्तमान समय में दोहरी मार, महामारी और चक्रवात तौकेते, दोनों से जूझ रहे गोवा की स्थिति पर अधिकारियों द्वारा बारीकी से नजर रखी जा रही है ताकि निवासियों का बचाव किया जा सके और राहत प्रदान की जा सके।

सभी आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी


कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत के सभी राज्यों को प्रभावित किया है, और कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए, कई राज्यो ने कड़े प्रतिबंध लगा रखे हैं। पहले गोवा में कर्फ्यू 23 मई को खत्म होने वाला था, लेकिन अब मुख्यमंत्री ने इसे 31 मई तक बढ़ा दिया है, क्योंकि यहां कोरोना वायरस के संक्रमण में लगातार बढ़ोतरी देखी जा रही है।

इस विस्तारित लॉकडाउन अवधि के दौरान, राज्य में कर्फ्यू के सभी मानदंड यथावत रहेंगे। आवश्यक वस्तुओं की दुकान, शराब और किराना की दुकानें सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक खुली रह सकती हैं, और मेडिकल स्टोर और रेस्तरां के किचन को सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक काम करने की अनुमति है।

मौजूदा संकट के समाधान के लिए बढ़ाए गए कर्फ्यू के अलावा और भी कई उपाय किए गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, विधायकों को सलाह दी गई थी कि वे अपने क्षेत्र में 'कोविड वॉर रूम्स' खोलें, ताकि कोविड-19 संबंधित समस्याओं को समय पर हल किया जा सके।

कई परेशानियों से जूझ रहा है गोवा

इसके अलावा, चक्रवात तौकते के विनाशकारी प्रभावों ने वर्तमान में चल रही परेशानियों को कई गुना बढ़ा दिया है। हॉलेंट बीच जैसे कई स्थान पूरी तरह से तबाह हो गए हैं। गोवा वर्तमान में सभी तरह की कठिनाइयों का सामना कर रहा है, और हम यह उम्मीद कर रहे हैं कि निवासियों की समस्याओं का जल्द से जल्द हल निकाला जाएगा।