कोरोना टीकाकरण अभियान के फायदों को सभी तक सामान रूप से पहुंचाते हुए गोवा के मुख्यमंत्री ने कहा की राज्य में विकलांग नागरिकों के टीकाकरण को प्राथमिकता दी जायेगी। उन्होंने आगे बताया की सभी कर्मचारी, जो फार्मास्युटिकल या निर्माण से लेकर बिक्री तक, दवा की सप्लाई चेन का हिस्सा हैं, वे सभी नागरिक फ्रंटलाइन वर्कर्स के समूह में शामिल होंगे। इस सम्बन्ध में जल्द ही ज़रूरी निर्देश जारी किये जाएंगे। उल्लेखनीय है कि राज्य में आज से 18 वर्ष से अधिक उम्र के नागरिकों का टीकाकरण शुरू हो गया है।

टीकाकरण के दायरे को बढ़ाने के लिए राज्य की पहल


हालांकि 18 वर्ष से अधिक की उम्र वाले नागरिकों का टीकाकरण देश में 14 दिन पहले ही शुरू हो गया था। लेकिन गोवा में टीकाकरण अभियान का पहला दिन आज था। इसके अलावा विकलांग नागरिकों के सम्बन्ध में हुई घोषणा राज्य में टीकाकरण अभियान के दायरे को बढ़ाएगी। रिकॉर्ड के अनुसार गोवा में करीब 2 लाख लोग कोरोना के टीके की पहली डोज़ लगवा चुके हैं, और करीब 90,000 लोगों का टीकाकरण पूरा हो चुका है। जबकि राज्य सरकार द्वारा 5 लाख वैक्सीन डोज़ का आर्डर दिया गया था, लेकिन चल रहे अभियान को पूरा करने के लिए अभी उसका छोटा सा अंश ही प्राप्त हुआ है। वर्तमान परिस्थिति को देखते हुए टीकों की कमी बड़े पैमाने पर लक्षित अभियान में बाधा डालने वाले मुख्य कारणों में से एक है।

नए मामलों के कारण सक्रीय मामले की संख्या चिंताजनक है

शुक्रवार को गोवा में 2,455 नए कोरोना मामले दर्ज किये गए और 2,960 लोग रिकवर हो गए। हालांकि अधिक लोगों के रिकवर होने के कारण सक्रीय मामलों में गिरावट आयी है लेकिन अभी भी 32,387 सक्रिय मामले हैं क्यूंकि नए मामले लगातार आ रहे हैं जिससे एक चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। गंभीर रूप से देखा जाए तो राज्य में 61 लोगों की कोरोना से जान चली गयी और कोरोना से होने वाली मौतें पिछले 10 दिनों में लगातार बढ़ी हैं।