गोवा में अनियंत्रित कोरोना केस और मृत्यु दर के लगातार बढ़ने से गोवा सरकार ने 9 मई से 23 मई तक राज्य में कर्फ्यू का आदेश दे दिया है। 15 दिनों की इस अवधि के दौरान केवल मेडिकल सप्लाई के साथ सभी आवश्यक सुविधाओं की अनुमति ही दी जायेगी। जबकि सीएम ने शुक्रवार को इस फैसले की घोषणा करने के लिए एक लंबा भाषण दिया, रिपोर्ट में कहा गया है कि कर्फ्यू की बारीकियों के बारे में एक विस्तृत आदेश आज शाम 4 बजे जारी किया जाएगा।

सभी क्षेत्रों में बनेंगे कोविड वॉर रूम


अभी तक निर्देशों के अनुसार, किराने की दुकानें सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक कार्यात्मक रहेंगी। होटल और रेस्टोरेंट के टेक अवे आर्डर की सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक अनुमति है, और ऐसी दुकानों पर किसी भी ग्राहक का जाना प्रतिबंधित है। जब कोरोना का पॉजिटिविटी दर और मृत्यु दर दोनों लगातार बढ़ रहे हैं ऐसे समय पर इस प्रकार के प्रतिबंध आवशयक हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, विधायकों को अपने चुनावी क्षेत्रों में कोरोना से संबंधित मुद्दों के जल्द से जल्द समाधान के लिए कोरोना वॉर रूम स्थापित करने के लिए कहा गया है। इन सुविधाओं को 24/ 7 कॉल सेंटर सेवाओं के साथ सम्मिलित किया जाएगा ताकि कोरोना रोगियों के साथ नियमित संपर्क बनाए रखा जा सके और उन्हें ऐसी हर आवश्यक सहायता दी जा सके।

पर्यटकों के लिए नेगेटिव RT-PCR रिपोर्ट या फिर संपूर्ण टीकाकरण सर्टिफिकेट आवश्यक


रिपोर्ट के अनुसार गोवा प्रशासन ने यह आदेश दिया है की पर्यटकों को राज्य में कोरोना की नेगेटिव RT-PCR रिपोर्ट या फिर संपूर्ण टीकाकरण सर्टिफिकेट दिखाने के बाद ही प्रवेश मिल सकेगा। हालाँकि बहुत से राज्यों ने ऐसा निर्णय पहले ही ले लिया था, लेकिन गोवा प्रशासन ने यह बॉम्बे हाई कोर्ट के कहने के बाद लिया। रिपोर्ट के अनुसार गोवा सरकार अपनी टूरिज्म इंडस्ट्री को हानि न पहुंचाने के लिए ऐसे प्रतिबन्ध नहीं लगाना चाह रही थी। शुक्रवार को गोवा में अब तक के सबसे अधिक 4,195 कोरोना मामले दर्ज किये गए हैं और मृत्यु की संख्या 56 से बढ़ गयी है। अभी तक गोवा में 1,12,462 लोग पॉजिटिव हो चुके हैं।