राज्य में सक्रिय मामलों की गिनती में लगातार बढ़ोत्तरी के बाद, बुधवार को गोवा में 2,865 नए संक्रमण दर्ज किए गए। जहां पिछले कुछ दिनों में रिकवरी रेट में तेजी से वृद्धि हुई है, वहीं पिछले 5 दिनों की छोटी अवधि में 300 से अधिक मौतों के साथ स्थिति गंभीर बनी हुई है। इसके अतिरिक्त, मौजूदा चिकित्सा व्यवस्था ऑक्सीजन संकट और संसाधनों की चिंताजनक कमी से जूझ रही है, जिससे स्थिति और भी गंभीर हो गई है।

गोवा में महामारी को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी उपायों की है आवश्यक्ता


दूसरी लहर की भयावहता से प्रभावित होकर, राज्य में परिस्थिति गंभीर हो गई है। हाल की रिपोर्ट में ऑक्सीजन की अनुपलब्धता और पहुंच से पैदा हुए संकट और नागरिकों पर इसके प्रभावों का उल्लेख किया गया है। वायरस से निपटने के लिए सरकार द्वारा लागू किए जा रहे उपायों के बावजूद, राज्य की स्थिति बेहतर नहीं हो रही है।

नॉकसेंस (Knocksense) से बात करते हुए, वास्को-दा-गामा के एक स्थानीय निवासी, अभिषेक गुप्ता ने कहा, "जहां पर्यटकों को राज्य में प्रवेश की अनुमति दी जा रही है, वहीं स्थानीय लोगों को आवश्यक सामान प्राप्त करने के लिए भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लॉकडाउन के बावजूद, शराब की दुकानें खुली हैं। कोरोना तीव्र गति से फैल रहा है और इससे निपटने के लिए सख्त प्रतिबंधों की आवश्यकता है, जिसकी यहां पर कमी देखी जा रही है। इसके अलावा, चिकित्सा के बुनियादी ढांचे को भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। उच्च न्यायालय द्वारा बताए जाने के बाद ही बेड और ऑक्सीजन की कमी का एहसास हुआ है।

एक अन्य निवासी, अंकिता जोशी ने कहा, "मुझे लगता है कि कोविड मामलों में एक अभूतपूर्व बढ़ोतरी के बीच टीकों की कमी पर भी अधिकारियों को ध्यान देना चाहिए। आगे,यह राज्य की जिम्मेदारी है किऑक्सीजन और बेड की कमी को दूर करने के लिए तेजी से कदम उठाए जाएं। ऐसे परिदृश्य में, जवाबदेही को स्वीकार करना और तेजी से कदमों को निष्पादित करना उचित है ताकि संकट का जल्द से जल्द समाधान किया जा सके। "

गोवा में अब तक कोविड वायरस से प्रभावित हुए 1,27,693 व्यक्ति!


हालांकि महामारी के पहले वर्ष के दौरान राज्य ने सफलतापूर्वक मामलों की गिनती को नियंत्रित कर लिया था, लेकिन अप्रैल में यह स्थिति बदल गई और संक्रमण खतरनाक रूप से बढ़ गया। राज्य में 69,800 मामले या कुल कोविड मामलों का 54.6 प्रतिशत मामले केवल मार्च और अप्रैल 2021 के पिछले दिनों में सामने आए। महामारी की गति को देखते हुए, इस समय व्यापक उपायों की निश्चित रूप अत्यंत आवश्यकता है!